Monday, 5 November 2012

मेरे शहर के लोग

कहने को हाथ मिलाते हैं, गले लगते हैं मगर 
दिल में कुछ और जुबां पे कुछ और ही रखते हैं 


नफासत पसंद हैं, खुशनवीस है मेरे दोस्त 
मौत के पैगाम भी सजा के लिखा करते हैं 



कितने पुर खुलूस हैं मेरे शहर के लोग
अमन के लिफ़ाफ़े में दहशत का मज़मून रखते हैं 


चर्चा-ए-अमन है सरगोशी से हर तरफ
दहशत का सामान मगर बादस्त रखते हैं 

गुमाँ पाले बैठे हैं दिल में  फरिश्ता होने का 
इंसान होने का भी मगर, कहाँ ये शऊर रखते हैं 

हवाओं में बेकरारियाँ, सरगोशियाँ फ़लक पे 
खुदा खैर कि तूफ़ान, आमद को सफर करते हैं 

जिस तरफ नज़र जाए, एक भगदड़ सी मची है 
अपनी कहने कि फुरसत न सुनने का सबर रखते हैं

चाँद के दाग गिनाते उन्हें भी देखा है अक्सर
स्याह दामन के जिनके अब दाग नहीं दिखते हैं 

बेगैरती का चश्मा कुछ इस तरह  आँखों पे चढ़ा है
मुफलिस के आँसुओं में इन्हें वोट दिखा करते हैं 

अपाहिज की वैसखियों से भी वो नोट कमाते हैं 
दानिशमंदी का दिखावा जो सरेआम किया करते हैं 


( पुर खुलूस - प्रेम से भरपूर, बादस्त- हाथों में, खुशनवीस- सुन्दर लिखावट वाला))

42 comments:

  1. पढ़कर ऐसा लगा जैसे की मिर्ज़ा ग़ालिब की या डॉक्टर इकबाल की कोई नज्म पढ़ रहा हूँ.कहीं से भी ये नही लगता की ये आपने लिखी है.सदा इसी तरह साफ़ सुथरा लिखती रहें.यही शुभकामना देता हूँ आपको.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमिर भाई , आपकी शुभकामनाओं के लिए शुक्रिया...आपने तो बहुत बड़ी बात कह दी... मैं तो अभी आप सब से सीख ही रही हूँ.... आपका दिशा निर्देशन बहुत सहायक सिद्ध होता है ... बस ऐसे ही सहयोग कि अपेक्षा है आपसे
      बाहु बाहु धन्यवाद!

      Delete
  2. वाह,,,, बहुत ही उम्दा गजल ,,,,,शालिनी जी बधाई स्वीकारें,,,

    RECENT POST : समय की पुकार है,

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र जी ..

      Delete
  3. चाँद के दाग गिनाते उन्हें भी देखा है अक्सर
    स्याह दामन के जिनके अब दाग नहीं दिखते हैं ... गिनने में वही लगे रहते हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. रश्मि जी, हार्दिक आभार!

      Delete
  4. आपकी उम्दा पोस्ट बुधवार (07-11-12) को चर्चा मंच पर | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रदीप जी... चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए धन्यवाद...

      Delete
  5. चाँद के दाग गिनाते उन्हें भी देखा है अक्सर
    स्याह दामन के जिनके अब दाग नहीं दिखते हैं

    खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संगीता जी...

      Delete
  6. आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तारीफ़ के लिए शुक्रिया संजय जी!

      Delete
  7. क्या कहने ...बेहद उम्दा ...
    अंतिम का तंज तो बड़ा ही सटीक हैं.



    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत हैं ...
    http://rohitasghorela.blogspot.in/2012/11/blog-post_6.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. रोहितास जी ... रचना पर ध्यान देने के लिए शुक्रिया...

      Delete
  8. खूबसूरत ग़ज़ल......

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सरस जी!

      Delete
  9. दिल मिले या न मिले हाथ मिलाते रहिये .,ये नया शहर है कुछ दोस्त

    बनाते रहिये ,

    बात कम कीजे ,ज़हानत को छिपाते रहिये .

    कहने को हाथ मिलाते हैं ,गले लगतें हैं ,

    दिल में कुछ और जुबां पे कुछ और ही रखते हैं .

    "में "शब्द छूट गया है लिख लें .बढ़िया रचना पढ़वाई है हमारे इस दौर की .बधाई .

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद वीरेंद्र जी, गलती का सुधार करवाने के लिए शुक्रिया !

      Delete
  10. कोई आँख भी न मिलाएगा ,

    जो गले मिलोगे तपाक से ,

    ये नए मिजाज़ का शहर है ,ज़रा फासले से मिला करो .

    हर आदमी में होतें हैं दस बीस आदमी ,

    जिससे भी मिलना कई बार मिलना .

    मेरा खैरमकदम करने के लिए इस्तकबाल करने के लिए आपका ,सभी ब्लोगार्थियों का दिल से आभार .
    नेहा से -

    वीरुभाई ,D BLOCK ,#4 ,NOFRA,COLABA ,MUMBAI ,400-005.

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या बात कही है वीरू भाई... बिल्कुल सही
      रचना पर ध्यान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!

      Delete
  11. Replies
    1. शुक्रिया प्रतिभा जी!

      Delete
  12. बेहतरीन गजल ,सुन्दर उपुक्त शब्द चयन की आमद ...बधाईयाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. उदय वीर जी, तहे दिल से शुक्रिया आपकी हौंसला अफज़ाई के लिए.

      Delete
  13. दिल की बातें जबां पर, कैसे आयें मित्र।
    नवयुग में बिगड़ा हुआ, उज्वल-धवल चरित्र।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल सही कहा सर आपने...बहुत बहुत धन्यवाद!

      Delete
  14. क्या बात है शालिनी वाह मजा आ गया सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अरुण जी!

      Delete
  15. बहुत बढ़िया प्रस्तुति बहुत बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेश कुमारी जी... बहुत बहुत आभार!

      Delete
  16. शालिनी जी कमाल कर दिया इस बार तो आप ने.....दाद कबूल करें.........हैट्स ऑफ इसके लिए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको पसंद आया इमरान जी....जहे नसीब... तारीफ़ के लिए तहे दिल से शुक्रिया कुबूल कीजिए..

      Delete
  17. बहुत बढ़िया दिल को छू जाने वाले रचना ..
    हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. kavita ji, blog par aapka abhinandan.... bahut bahut dhanyvaad!

      Delete
  18. बहुत खूबसूरत गज़ल ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद वंदना जी!

      Delete
  19. bahut khoob Shalini ji .....bahut hi sundar rachana ....bs yun kahiye hr sher lakhon ke lage ....abhar.

    ReplyDelete
    Replies
    1. नवीनजी, आपका बहुत बहुत शुक्रिया !

      Delete
  20. behtareen gajal...:)
    dil ko chhune layak:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मुकेश जी!

      Delete
  21. शानदार ग़ज़ल

    ReplyDelete
  22. शालिनी जी , आपकी टिप्पणियाँ हमारे लेखन की आंच हैं ,एड़ और उत्प्रेरण बनती हैं .शुक्रिया . बहुत खूब डुबोया अनुभूतियों ने आपकी .आज की आवाज़ है पुकार है तंज है इन शैरों में .

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks