Tuesday, 30 October 2012

खता मुआफ


खता प्यार करने की है, मुआफी के तलबगार हैं
खता मुआफ हो, हाँ हम  ही गुनाहगार हैं.

कब  तुमने हमसे वफाओं का, कोई सौदा किया था,
जफ़ाओं की तिजारत के तेरी, हम ही खताबार हैं.

दिल की गलती कि वो टूटा, क्यों शीशे का बना था
संग-ए-जफा खा के अब,  बिखरने को भी तैयार हैं

फितरत है हमारी तो अश्कों में जज्ब होने की,
तल्खियाँ तुम्हारी कब, सख्त इतनी बेशुमार हैं

रकीब खुद ही बन बैठे हैं , जाने कैसे अपने प्यार के
दिल चाहे तुम्हें तो रोकें, कहते कि नाफरमाबरदार है.

लुटा के खुदी को बने बैठें हैं हम फ़कीर,
जमाना  समझे  है कि अब भी ज़रदार हैं .



26 comments:

  1. प्यार में खता की माफ़ी तोहोनी चाहिए...
    बहुत ही बढियां गजल....
    बेहतरीन....
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा.......
      धन्यवाद रीना जी

      Delete
  2. वाह वाह वाह क्या इरशाद फ़रमाया है आपने शायरे मोहतरम.पढ़ कर दिल भी बाग़ बाग़ हो गया.
    इस बज्मे जहाँ के उम्मीदवार हम भी हैं ,
    आप यूँ ही लिखती रहें पढने को बेकरार हम भी हैं.

    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स
    इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमिर जी... आपकी तो तारीफ भी शायराना अंदाज़ में होती है... ज़र्रानवाज़ी के लिए शुक्रिया!

      Delete
  3. वाह ,,,, बहुत खूब,शालिनी जी,,,,

    लुटा के खुदी को बने बैठें हैं हम फ़कीर,
    जमाना समझे है कि अब भी ज़रदार हैं,,,,,,

    RECENT POST LINK...: खता,,,

    .

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र जी..

      Delete
  4. माशाल्ला ऐसे ही लिखते रहिये ... दिल खुश हो गया जी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रोहितास जी..

      Delete
    2. मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत हैं।
      http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/10/blog-post.html

      Delete
  5. बहुत सुन्दर गज़ल...

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनु जी....

      Delete
  6. वाह शालिनी जी क्या बात है तहे दिल से दाद कुबूल कीजिये

    लुटा के खुदी को बने बैठें हैं हम फ़कीर,
    जमाना समझे है कि अब भी ज़रदार हैं .

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अरुण जी!

      Delete
  7. खताबार - ख़तावार

    बेहद उम्दा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया इमरान जी... वर्तनी सुधार के लिए धन्यवाद !

      Delete
  8. Replies
    1. धन्यवाद निधि जी!

      Delete
  9. पास से गुजर रहा था सौचा आपके ब्लॉग से मिलते हुवे चलूँ .... मछलियों को दाना खिलाया फिर सौचा आपको मेरी नई पोस्ट के बारे में बताता चलूँ ....

    my recent post :- http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/10/blog-post.html :))

    If I disturb you then Sorry !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रोहतास जी.... हमारे ब्लॉग पर दर्शन देने का... आपके ब्लॉग पर आए, बहुत अच्छा लगा!

      Delete
  10. Replies
    1. आपको पसंद आया ... बहुत बहुत धन्यवाद !

      Delete
  11. बहुत खूब. सुंदर अशआर है. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रचना जी!

      Delete
  12. लुटा के खुदी को बने बैठें हैं हम फ़कीर,
    जमाना समझे है कि अब भी ज़रदार हैं ... kya baat hai

    ReplyDelete
  13. तारीफ के लिए हर शब्द छोटा है - बेमिशाल प्रस्तुति शालिनी जी - आभार.

    ReplyDelete
  14. उम्दा गज़ल,बहुत खूब शलिनी जी ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks