Friday, 8 February 2013

मौसम या तुम


आज सुबह
गुनगुनी धूप की
नरम चादर लपेट
पड़ी रही न जाने कब तक
तेरी यादों की आगोश में
दिल को मिलता रहा
गुनगुना सा 
सुकून


बारिश की
पहली बूँद की
गीली सी छुअन
गालों पर
थरथरा से गए अहसास
याद आ गई तुम्हारी
वो अहसासों से भीगी
पहली छुअन


फिज़ा में उड़ते
कोहरे ने
समेट लिया मेरा वज़ूद
अपने आगोश में
साँसों से दिल तक उतर गई
कोहरे की कोरी खुशबू
पुलक उठी मैं जैसे
पाकर तेरे बदन की
महक




23 comments:

  1. ये तेरा ज़िक्र है...या इत्र है... :)
    बहुत सुंदर! वो पहला-पहला खूबसूरत एहसास....
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया अनिता जी!

      Delete
  2. Replies
    1. धन्यवाद सतीश जी!

      Delete
  3. बहुत खुबसूरत कोमल अहसास और सुंदर शब्द संयोजन, अभिव्यक्ति बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सुनील जी!

      Delete
  4. Replies
    1. धन्यवाद डॉ. मोनोका!

      Delete
  5. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति,मौसम और प्यार की सुन्दर जुगलबंदी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया राजेन्द्र जी!

      Delete

  6. दिनांक 10/02/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हलचल में शामिल करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया यशवंत जी !

      Delete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल रविवार 10-फरवरी-13 को चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरुण जी, आपकी चर्चा का हिस्सा बनना , निस्संदेह मेरे लिए प्रसन्नता व गौरव का विषय है..

      Delete
  8. behad khoobsurat ...aapki rachna padh ke aisa laga maano ..abhi abhi ek najuk komal sa pankh hawa mei udte hue mere gaalo ko choo gaya ho ...badhai :-)

    ReplyDelete
  9. वाह, बहुत खूब

    ReplyDelete
  10. मौसम सुहाना हो जब अपनों का साथ चाहे ख्वाबों में ही सही ,बहुत कोमल अह्सासो से गुँथी शब्द माला बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  11. हसीं ख्यालों से लबरेज़ बोलती तस्वीरों के साथ........वाह।

    ReplyDelete
  12. वाह! बहुत खुबसूरत एहसास पिरोये है अपने......

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति,आभार.

    प्यार के तराने जगे गीत गुनगुनाने लगे
    फिर मिलन की ऋतू आयी भागी तन्हाई

    दिल से फिर दिल का करार होने लगा
    खुद ही फिर खुद से क्यों प्यार होने लगा

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks