Sunday, 2 July 2017

स्वप्न और आँख

कुछ सपनों की
आंखों से नहीं बनती,
स्वप्न पूरा होने से पहले ही आंखें
खोल देती हैं पलकें
क्योंकि
आंखें हक़ीक़ी दुनिया की हैं
और सपने तिलिस्म दिखाते हैं...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks