Wednesday, 10 October 2012

मुंतज़िर............


मुंतज़िर बैठे हैं तेरी राहों में कब से पलकें बिछाए,
रास्ता भूल के कभी तू भी, गाहे बेगाहे आजा.

वफाएं तो न थी कभी और न कभी होंगी शायद,
सवाल -ए-रस्म है, जफ़ाओं की रस्म निभाने आजा.

रिसते जख्मों पे चढ़ा जाता है बीतते वख्त का  मुलम्मा,
कर  कोई  तरकीब नई , फिर नया जख्म लगाने आजा .

रुसवाई सरेआम मेरी, भुलाने सी लगी है दुनिया,
फिर कोई इलज़ाम नया, मेरे माथे पे सजाने आजा. 

अरसा हुआ जाता है देखे खुद को, भूल चुके हैं शक्ल,
आँखों का अपनी आइना, फिर एक बार दिखाने आजा.

महफ़िल को मेरी वीरां कर छोड़ा है कबसे ,
गैर के रक्स में ही सही,पर शम्मा जलाने आजा .

हमराज़ मेरे, गुनाह -ए - उल्फत की सज़ा,
दे फिर एक बार, अश्कों में डुबोने आजा.

पेशोपश में फिर दिल, जियें कि मर जाएँ,
मरने के इरादे को फौलाद बनाने आजा.

क्यों हम ही तेरी वज़्म से, खाली हाथ लौटें  ए 'दिल',
अश्कों की सौगात से, गम की बारात सजाने आजा. 







19 comments:

  1. Replies
    1. धन्यवाद यशवंत जी!

      Delete
  2. अजी वाह क्या बात उम्दा बेहतरीन सुन्दर एक से बढ़कर एक पंक्तियाँ है वाह बस वाह, ये दो तो बस लाजवाब हैं.
    रिसते जख्मों पे चढ़ा जाता है बीतते वख्त का मुलम्मा,
    कर कोई तरकीब नई , फिर नया जख्म लगाने आजा .
    रुसवाई सरेआम मेरी, भुलाने सी लगी है दुनिया,
    फिर कोई इलज़ाम नया, मेरे माथे पे सजाने आजा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. तारीफ के लिए शुक्रिया अरुण....

      Delete
  3. वाह वाह बहुत खूब तीसरा और चौथा शेर तो बहुत ही उम्दा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद इमरान जी!

      Delete
  4. वाह शालिनी जी....
    बहुत सुन्दर शेर...
    महफ़िल को मेरी वीरां कर छोड़ा है कबसे ,
    गैर के रक्स में ही सही,पर शम्मा जलाने आजा ....

    ये तो और भी बढ़िया..
    पेशोपश में फिर दिल, जियें कि मर जाएँ,
    मरने के इरादे को फौलाद बनाने आजा....

    लाजवाब सभी के सभी...

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनु जी.... आपको मेरे शेर पसंद आए ..यह मेरी खुशकिस्मती है... आभार

      Delete
  5. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ,,,,,,

    MY RECENT POST: माँ,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र जी!

      Delete
  6. रिसते जख्मों पे चढ़ा जाता है बीतते वख्त का मुलम्मा,
    कर कोई तरकीब नई , फिर नया जख्म लगाने आजा .

    सभी बेहतरीन

    ReplyDelete
    Replies
    1. वंदना जी ...मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है ...
      साभार

      Delete
  7. एक एक लफ्ज़ भावों की गूढता हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. रश्मि जी... आपकी प्रशंसा मेरे लिए बहुत प्रेरणादायक है ...बहुत बहुत धन्यवाद!

      Delete
  8. एक ब्लॉग सबका पर अपनी पोस्ट पर आपका कमेन्ट देखा ,जो मुझे यहाँ खिंच लाया.यहाँ आकर तो मै हैरान रह गया ,जिस उर्दू को हमने इतना अरसा पढ़ा ,लिखा.आपकी हर हर नज्म उसमे डूबी हुई है.ऐसा लगता है की आपने उर्दू पर काफी स्टडी की है.बहुत अच्छी प्रस्तुतियां हैं.मेरे दिल को तो छू गई.मै तो आज से ही आपका समर्थक हो गया.वेलकम ......................मरहबा खुश आमदीद.

    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमिर जी, बहुत बहुत शुक्रिया....और हाँ,रही उर्दू पे महारत कि बात तो भाईजान हमसे तो उर्दू में अलिफ़ भी नहीं आता पर हाँ ... उर्दू जुबां को सीखने की बहुत तमन्ना है... कहीं भी अटक जाते हैं तो बहुत कोफ़्त होती है..

      Delete
    2. फिर तो आपके लिए सबसे ज्यादा आसान ''मोहब्बत नामा '' का कॉलोम ''नग्माते आमिर ''ही रहेगा.इसमें हर हर नज्म के निचे मैंने शब्द अर्थ भी लिखे हैं.आप इन शब्द अर्थ को लिख लें.उम्मीद है की आपको बहुत ज्यादा महारत हासिल हो जाएगी.सब हिंदी में ही हैं.

      Delete
  9. आज से आपका ब्लॉग मोहब्बत नामा ब्लोग्स अपडेट्स पर भी अपडेट होता रहेगा.आपका भी स्वागत है.आप भी ज्वाइन कर लीजिये.


    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    ReplyDelete

  10. रुसवाई सरेआम मेरी, भुलाने सी लगी है दुनिया,
    फिर कोई इलज़ाम नया, मेरे माथे पे सजाने आजा. wah kya khoob kaha.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks