Thursday, 29 November 2012

बेतरतीब हयात


बेतरतीब है, बिखरी सी पड़ी है हयात,
चलो आज इसको करीने से सजाया जाए.

घर की हरेक चीज़, हर कोने में फैली हुई हैं यादें तेरी,
दिल की दीवारों पे इन्हें , सिलसिलाबार सजाया जाए. 

जिस्म से रूह तलक, गोशे-गोशे पर छपी हैं बातें, 
हर्फ-ब-हर्फ़  चुन-चुन के एक अफसाना बनाया जाए. 

वो तेरी हर बात जो, दिल को नाग़वार गुज़री, 
उन्हीं बातों से आज, अपने शेरों को सजाया जाए .

कहाँ तक संजोते रहें ग़मों को, जो बख्शे तूने ,
उन ग़मों को आज सीने में, अपने दफनाया जाए. 

बस्ल-ए-तन्हाई में है कौन, किससे गुफ्तगू करलें.
तन्हाइयों को भी आज, शोर सन्नाटे का सुनाया जाए.

रू-ब-रू आ, कि आँख मुंदने तक तेरा दीदार करें,
नज़र की तिश्नगी को तेरे दीदार से बुझाया जाए.

थम-सी गई है रफ़्तार-ए-जिंदगी, कि मौत दूर खड़ी, 
पैगाम जल्द आने का ,कासिद के हाथों भिजवाया जाए.

मुलाक़ात जब भी हो खुद से, कोई गैर जान पड़ता है,
गैरों से पेशतर खुद को,  अपना दोस्त बनाया जाए .

कुछ कमी सी है फिज़ा में, कि राग-ए-गुल फीके हैं ,
खून-ए-जिगर देके फूलों को रंगीन बनाया जाए .






27 comments:

  1. वाह शालिनीजी ....बहुत ही सुन्दर ....जैसे हर हर्फ़ तड़पकर भीतर से निकला है .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल की तड़प है, लफ़्ज़ों में ढल जाती है
      बगरना हर घड़ी, यही दिल को तडपती है
      सरस जी ... बहुत बहुत धन्यवाद !

      Delete
    2. लफ़्ज़ों में ढल कर ही तड़प बाहर आती है,
      लफ़्ज़ों में ही हाल-ए-दिल बयाँ कर जाती है |
      लफ़्ज़ों में बयाँ करने के इस तरीके को,
      हर लब से कोई न कोई कहानी फना पाती है |

      Delete
  2. वाह क्या कहने ....गजब की गज़ल।
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/11/3.html

    ReplyDelete
  3. वाह शालिनी जी क्या कहना उम्दा माशाल्लाह गज़ब की ग़ज़ल है

    ReplyDelete
  4. हर्फ़ से हर्फ़ मिलाता रहा ,नज्म मेरी बनती गयी ,की तर्ज़ पर आपने अपने उर्दू गुलदस्ते के फूलों को एक एक करके सजाया ,और सजाते सजाते एक खुबसूरत नज्म बन गयी। मैंने तो आपसे पहले भी कहा था की मेमोरी अटेच रखें।ताकि सब सेव होता रहे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आमिर जी... आपकी सलाह के लिए धन्यवाद!

      Delete
  5. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  6. जिस्म से रूह तलक, गोशे-गोशे पर छपी हैं बातें,
    हर्फ-ब-हर्फ़ चुन-चुन के एक अफसाना बनाया जाए.

    वो तेरी हर बात जो, दिल को नाग़वार गुज़री,
    उन्हीं बातों से आज, अपने शेरों को सजाया जाए .


    लाजवाब गजल

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशवंत

      Delete
  7. बेहतरीन ग़ज़ल शालिनी जी, बधाई!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दिनेश जी!

      Delete
  8. बेहतरीन ग़ज़ल शालिनी जी, बधाई!

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत ही खुबसूरत......उर्दू के लफ़्ज़ों का सुन्दर प्रयोग ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद इमरान जी...ज़र्रनावाजी है आपकी ....

      Delete

  10. कल 02/12/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies


    1. मुलाक़ात जब भी हो खुद से ,कोई गैर जान पड़ता है ,

      गैरों से पेशतर खुद को ,अपना दोस्त बनाया जाए .

      बढ़िया शैर है शालिनीजी . बशीर बद्र साहब की ये पंक्तियाँ याद आ गईं .


      घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूं कर लें ,

      किसी रोते हुए बच्चे को हंसाया जाए .

      Delete
  11. वाह बहुत खूब

    ReplyDelete
  12. गैरों से पेश्त रखुद को अपना दोस्त बनाया जाए ----
    बहुत बेहतरीन रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  13. Heya are using Wordpress for your blog platform? I'm new to the blog world but I'm
    trying to get started and set up my own. Do you require any html coding expertise to make
    your own blog? Any help would be really appreciated!
    My web page As suggested here

    ReplyDelete
  14. बहुत ही बेहतरीन गजल है...
    बहुत ही बढ़ियाँ...
    :-)

    ReplyDelete
  15. रु ब रु आ कि आँख मुदने तक तेरा दीदार करें ।
    नजर की तिश्नगी को तेरे दीदार से बुझाया जाए ।।

    शालिनी जी वाकई आप ने तो बहुत ही खूबसूरत गजल हम सब के सामने परोस दी है । तहे दिल से शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  16. वो तेरी बात जो सबको नागवार गुज़री ...

    बहुत ही लाजवाब शेर है इस गज़ल का ... दिल को छूता हुवा ...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks