Tuesday, 22 May 2012

अब छोड़ भी दे, मन

बहुत हुआ
अब छोड़ भी दे, मन  
              
तृष्णा की डोर से बंधी 
आस की मृगी को 
मुक्त कर बंधन से 
 मृगमरीचिका में भटकती 
इस व्याकुल उलझन को 
अब छोड़ भी दे, मन 


कहाँ, कितना और कब तक 
यूँही बेमकसद भटकेगा 
नागफनी सी उगती 
कामनाओं के जंगल में 
लहूलुहान हो
कहाँ-कहाँ सर पटकेगा 
बेबसी के पिंजरे को 
अब खोल भी दे मन .


अनंत विस्तार है 
अथाह गहराई
न कोई ओर, न कोई छोर 
धुंधलके में फिरते सायों सी
पल पल बनता मिटता वजूद 
कब तक दौड़ेगा इन छलावों  के पीछे 
झूठ-मूठ के भ्रमों को 
अब तोड़ भी दे मन  







40 comments:

  1. 'बेबसी के पिंजरे को
    अब खोल भी दे मन .'

    सुन्दर बात कही मन से...
    मान ले मन तो क्या बात हो!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस ये मन ही तो बस में नहीं आता...... रचना पर ध्यान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, अनुपमा जी!

      Delete
  2. Sach hai ... Jo Bhi hai apne andar hi hai ... Chalave bas bhatkav ko aur badaa dete hai .. Gahri rachna ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. और इन्ही छलावों के बीच भटकते बीत जाता है जीवन....... धन्यवाद दिगंबर जी,

      Delete
  3. कहाँ-कहाँ सर पटकेगा
    बेबसी के पिंजरे को
    अब खोल भी दे मन .... गहरी सोच
    सादर
    पुनश्चः........
    शनिवार 26/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है .

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशोदा जी , हलचल में शामिल करने के लिए हार्दिक आभार!

      Delete
  4. Replies
    1. धन्यवाद यशवंत जी!

      Delete
  5. कहाँ, कितना और कब तक
    यूँही बेमकसद भटकेगा
    नागफनी सी उगती
    कामनाओं के जंगल में
    लहूलुहान हो
    कहाँ-कहाँ सर पटकेगा
    बेबसी के पिंजरे को
    अब खोल भी दे मन ... थोड़ा जी ले ओ मन

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रश्मि जी!

      Delete
  6. अनंत विस्तार है
    अथाह गहराई
    न कोई ओर, न कोई छोर
    धुंधलके में फिरते सायों सी
    पल पल बनता मिटता वजूद
    कब तक दौड़ेगा इन छलावों के पीछे
    झूठ-मूठ के भ्रमों को
    अब तोड़ भी दे मन
    कभी ऐसा भी सोच ही लेता है मन ... बहुत अच्‍छा लिखा है आपने

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सदा जी !

      Delete
  7. बहुत ही सुन्दर कोमल से भाव
    सुन्दर प्रस्तुती....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रीना जी!

      Delete
  8. कहाँ, कितना और कब तक
    यूँही बेमकसद भटकेगा
    नागफनी सी उगती
    कामनाओं के जंगल में
    लहूलुहान हो
    कहाँ-कहाँ सर पटकेगा
    बेबसी के पिंजरे को
    अब खोल भी दे मन .

    वाह ,,,, बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: किताबें,कुछ कहना चाहती है,....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र जी!

      Delete
  9. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 24 -05-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... शीर्षक और चित्र .

    ReplyDelete
    Replies
    1. हलचल में स्थान देने के लिए हार्दिक आभार, संगीता जी!

      Delete
  10. कहाँ, कितना और कब तक
    यूँही बेमकसद भटकेगा
    नागफनी सी उगती
    कामनाओं के जंगल में
    लहूलुहान हो
    कहाँ-कहाँ सर पटकेगा
    बेबसी के पिंजरे को
    अब खोल भी दे मन .

    निः शब्द हूँ|ऐसा लग रहा है मेरी भावनाओं को उकेर कर रख दिया हो...बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वाति जी, ऐसे ही पता नहीं कब और कैसे मन कि डोर किसी से बांध जाती है , जब कोई हमख्याल मिल जाए तो उसके शब्द अपने से लगाने लगते हैं.... प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद!

      Delete
  11. मन को समझना कहां आसान है.. कब किधर को जाएगा, कुछ पता नहीं। उसे बंधन में रखना आसान नहीं

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं आपसे बिलकुल सहमत हूँ दीपिका जी!

      Delete
  12. भ्रम टूट ही जाये तो अच्छा ...बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  13. कहाँ, कितना और कब तक
    यूँही बेमकसद भटकेगा
    नागफनी सी उगती
    कामनाओं के जंगल में
    लहूलुहान हो
    कहाँ-कहाँ सर पटकेगा
    बेबसी के पिंजरे को
    अब खोल भी दे मन .

    .... व्याकुल मनको बस धीर ही तो नहीं मिलता .......बहुत सुन्दर शालिनीजी

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर लिखा ...कब तक छलावे के पीछे भागता रहेगा मन ....जब ये बात मन समझ ले तो जीने का मजा कुछ और बढ़ जाए

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस ये मन ही है सब कुछ समझाने पर भी अपने ही भ्रमों में भटकते रहना चाहता है ...... बहुत बहुत धन्यवाद राजेश जी!

      Delete
  15. कहाँ, कितना और कब तक
    यूँही बेमकसद भटकेगा
    नागफनी सी उगती
    कामनाओं के जंगल में
    लहूलुहान हो
    कहाँ-कहाँ सर पटकेगा

    वाह.....बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ .....शानदार ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया इमरान जी!

      Delete
  16. बहुत खूब....खुद से पहचान करवाती रचना ....!

    ReplyDelete
  17. मन की परिभाषा को आपने बेहद खूबसूरती से प्रस्तुत किया है! शालिनी जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय ....... बस प्रयास किया है नहीं तो मन को समझना ही मुश्किल है ...उसकी परिभाषा और भाषा तो इश्वर ही जाने.

      Delete
  18. Replies
    1. सतीश जी, ये भ्रम बना ही रहता है...हज़ार समझाने पर भी ये मन अपने भटकाव के लिए नए रस्ते और नयी वजह ढूंढ ही लेता है.

      Delete
    2. व्यस्त रहे मन , यही कामना है !

      Delete
  19. इस व्याकुल उलझन को
    अब छोड़ भी दे, मन ..... bahut sundar vichaar, par man ki uljhano ki gaathe kaha khul paati hain, kaha chodi jaati hain....bahut hi achi rachna hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद!

      Delete
  20. नागफनी सी उगती
    कामनाओं के जंगल में
    लहूलुहान हो
    कहाँ-कहाँ सर पटकेगा
    बेबसी के पिंजरे को
    अब खोल भी दे मन .

    सुंदर सृजन....
    सादर बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद, संजय मिश्र जी.

      Delete
  21. बहुत ही सुंदर भाव और दिल को छूती अभिव्यक्‍ति ! बधाई शालिनी जी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुशीला जी!

      Delete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks