Thursday, 3 May 2012

उसका चले जाना

उसका चले जाना 


न जाने कितनी देर तक रही 
हथेलियों में 
उसके हाथो की हरारत 
जब हथेलियों से 
फिसलती हुई 
उसकी उंगलियां 
मेरी उँगलियों  के पोरों पर 
अपनी हलकी थरथराहट छोड़
न जाने कब  
जुदा हो गईं
शाम कि दहलीज पे 
आस को चौखट थामें
करते रहे इंतज़ार 
एक आहट का 
रात भर उनींदा सा रहा दरवाज़ा
पल - पल पलके झपकती 
बेचैन रहीं खिड़कियाँ 


28 comments:

  1. न जाने कब
    जुदा हो गईं
    शाम कि दहलीज पे
    आस को चौखट थामें
    करते रहे इंतज़ार
    एक आहट का
    रात भर उनींदा सा रहा दरवाज़ा
    पल - पल पलके झपकती
    बेचैन रहीं खिड़कियाँ .....

    बेहतरीन अहसासों की सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया धीरेन्द्र जी!

      Delete
  2. कल 05/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हलचल में शामिल करने के लिए धन्यवाद, यशोदा जी!!

      Delete
  3. ऐसी ही है जुदाई की तीस.....और ऐसा ही है इन्तेज़ार का दर्द...........

    सुंदर भाव शालिनी जी.

    अनु

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. धन्यवाद, इमरान जी !

      Delete
  5. एहसास को बखूबी लिखा है ... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार संगीता जी!

      Delete
  6. Replies
    1. धन्यवाद यशवंत जी!

      Delete
  7. बड़ी नजाकत से समेटा है भावनाओं को आपने...
    अच्छा लगा, पहली बार आना हुआ..
    शुभकामनाएं..!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मधुरेश जी, मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है ...... प्रशंसा के लिए धन्यवाद!

      Delete
  8. उफ़ ... गजब के शब्दों में बाँधा है इस कशिश कों ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  9. क्या कहूँ आपकी इस रचना के बारे में, शब्द ही नहीं मिल रहे । बेहद उम्दा रचना
    क्या कहूँ आपकी इस रचना के बारे में, शब्द ही नहीं मिल रहे । बेहद उम्दा रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय जी!

      Delete
  10. शाम कि दहलीज पे
    आस को चौखट थामें
    करते रहे इंतज़ार
    एक आहट का
    रात भर उनींदा सा रहा दरवाज़ा
    पल - पल पलके झपकती
    बेचैन रहीं खिड़कियाँ
    बहुत खूब। आखिरकार जो आनंद इंतजार के बाद हासिल करने में है उसकी बात की निराली है। बधाई हो आपको।

    ReplyDelete
  11. नाजूक भावो को बयान करती....
    सुकोमल रचना.....

    ReplyDelete
  12. "शाम कि दहलीज पे
    आस को चौखट थामें
    करते रहे इंतज़ार
    एक आहट का
    रात भर उनींदा सा रहा दरवाज़ा
    पल - पल पलके झपकती
    बेचैन रहीं खिड़कियाँ "
    वाह ! क्या बिंब उकेरे हैं ! बहुत सुंदर अभिव्यक्‍ति !

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रशंसा के लिए हार्दिक आभार , सुशीला जी !

      Delete
  13. First time i stepped in here....beautifully executed...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्वागत है नूपुर, कविता पर ध्यान देने के लिए शुक्रिया........ यूँ ही आते रहिए!

      Delete
  14. मेरी उँगलियों के पोरों पर
    अपनी हलकी थरथराहट छोड़
    न जाने कब
    जुदा हो गईं

    wah gahre bhavon ke sath es rachana me jadu hai ....badhai Shalini ji .

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद नवीन जी!

      Delete
  15. बहुत प्यारी.............नाज़ुक सी रचना.................

    अनु

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks