Wednesday, 9 January 2013

बस ...तू ही तू


जिस तरफ देखूं बस तेरी ही , सूरत नज़र आती है ,

या खुदा! क्या आँखें मेरी, तेरा आइना हो गईं ?



इतना तो इख्तेयार किसी का, किसी पर नहीं देखा,


कि अब मेरी सोच भी, तेरी गुलाम हो गई ?



अंदाज़ा हर कोई लगा लेता है, अपनी दास्ताँ का,


क्या शक्ल मेरी अब, खुली किताब हो गई?



जो भी मिलाता है मुझसे पेशतर, तेरा हाल पूछे है ,


क्या मेरी शख्सियत तेरी पहचान हो गई ?



जिसे देखो वो मेरे हालात पे हँस देता है ,


चर्चा-ए-दीवानगी मेरी , स
रे आम हो गई.

19 comments:

  1. जिस तरफ देखूं बस तेरी ही , सूरत नज़र आती है ,
    या खुदा! क्या आँखें मेरी, तेरा आइना हो गईं ? वाह उम्दा आगाज


    इतना तो इख्तेयार किसी का, किसी पर नहीं देखा,
    कि अब मेरी सोच भी, तेरी गुलाम हो गई ? हाय हाय


    अंदाज़ा हर कोई लगा लेता है, अपनी दास्ताँ का,
    क्या शक्ल मेरी अब, खुली किताब हो गई? वाह मस्त मदमस्त


    जो भी मिलाता है मुझसे पेशतर, तेरा हाल पूछे है ,
    क्या मेरी शख्सियत तेरी पहचान हो गई ? लाजवाब


    जिसे देखो वो मेरे हालात पे हँस देता है ,
    चर्चा-ए-दीवानगी मेरी , सरे आम हो गई. कमाल धमाल बेमिसाल

    शालिनी जी सभी के सभी अशआर माशाल्लाह कमाल के हैं, पढ़कर सारे दिन की थकान दूर हो गई, शाम तरोताजा हो गई मेरी ओर से ढेरों दिली दाद व बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अरुण जी...आपकी प्रशंसा बहुत महत्त्वपूर्ण है हमारे लिए!

      Delete
  2. दीवानगी का ये आलम भी अजीब है.... ::)
    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...!
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनिता जी .... आपको पसंद आई हमारा नसीब है |

      Delete
  3. Replies
    1. नीलिमा जी, बहुत बहुत शुक्रिया!

      Delete
  4. बहुत ही खूबसूरत अंदाज़ शालिनीजी

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सरस जी !

      Delete
  5. Replies
    1. धीरेन्द्र जी..हार्दिक आभार!

      Delete
  6. शीशा ए दिल में छिपी तस्वीरे यार जब ज़रा गर्दन झुकाई देख ली .यह तो इससे भी आगे की स्थिति है -तू ही तू बस तू ही तू ....लाली मेरे लाल की जित देखूं तित लाल ....जादू वाही है जो सर चढ़के बोले

    भी बोलता दिखे भी .बढिया संवाद संवाद आशिक का माशूक के साथ .

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या बात है वीरेंद्र जी, आपकी तो टिप्पणियाँ भी बहुत निराली होती हैं... बहुत खूब!

      Delete
  7. नज्म तो बड़ी सुन्दर है ,लेकिन पोस्ट की हैडिंग नज़र नही आई। इसलिए अपडेट्स में भी पता नही चला, की नयी पोस्ट है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमिर भाई..जल्दबाजी में भूल गई लिखना ...आज लिख दिया ... ध्यान दिलाने के लिए शुक्रिया!

      Delete
  8. बहुत ही बेहतरीन दीवानगी भरा ग़ज़ल,अति सुंदर।इसी बात पर .....

    जो की हो तुझसे सवा उसे हसरत से न देख,

    और जो तुझसे हो कम उसे हिकारत से न देख।

    देख आईना सिर्फ साथ सफाई के हमे,

    जिन्दगी के हर पन्ने बिन रुसवाई के देख।

    ReplyDelete
  9. शेर अलग अलग अच्छे हैं पर माफ़ कीजिये शालिनी जी ग़ज़ल की रवानगी नहीं बन पाई ।

    ReplyDelete
  10. बहुत शानदार ग़ज़ल शानदार भावसंयोजन हर शेर बढ़िया है आपको बहुत बधाई

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks