Monday, 21 January 2013

अक्सर ........


अक्सर तुझे देख के हम, नज़रें फेर लेते हैं, 
कि कहीं इन आँखों में, तू मुहब्बत न पढ़ ले .

बात करने से भी तुझसे, अक्सर कतराते हैं. 
आवाज़ की लरजिश कहीं, अफ़साने न गढ़ दे .

तेवर दिखाते हैं, त्योरियां चढ़ाये रहते हैं,
हया रुखसार पे छा के, कहीं राज़ बयां न कर दे.

ज़िक्र तेरा चलते ही महफ़िल में, हम जाम उठा लेते हैं. 
कि कदमों के बहकने को. नशे से परदे में पोशीदा कर दें 

तन्हाई से घबरा के अक्सर, बज़्म सजा लेते हैं ,
तेरी यादें आ आकर कहीं, हमको दीवाना न कर दें .


31 comments:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (23-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | अवश्य पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद प्रदीप जी!

      Delete
  2. अक्सर तुझे देख के हम, नजरे फेर लेते है,

    अतिसुन्दर,आँखें तो मोहब्बत की आईना होती है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजेन्द्र जी ...

      Delete
  3. क्या बात है ... सच कहा बात करने से ऐसे में कतराना ही अच्छा है ...
    वो नज़्म याद हो आई जगजीत जी की ... बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जाएगी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया दिगंबर जी

      Delete
  4. बहुत कमाल का लिख दिया है आपने |बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार जय कृष्ण जी...

      Delete
  5. wah kya bat hai shalini ji gahre bhavon ke sath hr sher lajbab lga

    ReplyDelete
    Replies
    1. नवीन जी , बहुत बहुत शुक्रिया!

      Delete
  6. Replies
    1. धन्यवाद शास्त्री जी

      Delete
  7. वाह शालिनीजी ...आपका यह अंदाज़ भी निहायत खूबसूरत लगा ....!.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको पसंद आया,,हमारा लिखना सफल हुआ...आभार!

      Delete
  8. बहुत खूब..........नजाकत भरी ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद इमरान जी :-)

      Delete
  9. खुबसुरत फोटो और आपके लेखनी का जबाब नहीँ बहुत अच्छा
    मोबाईल वर्ल्ड : Which can run mobile deviceenabling the Free Inter...: कौन सा मोबाइल उपकरण चला सकते हैँ फ्री इन्टरनेट फ्री इन्टरनेट मोबाइल से चलाने की बात करे तो सबसे पहला ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया वरुण.../

      Delete
  10. Replies
    1. धन्यवाद हमसफर जी!

      Delete
  11. बहुत खूब हैं अशआर पोस्ट के .शुक्रिया आपकी टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  12. Wah Shalini ji kya likhahai apne......bahut hi behtreen

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है... शालिनी जी !
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  14. वाह .बहुत ही प्रभावशाली अभिव्यक्ति. हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  15. खूब कही..... बेहतरीन अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks