Saturday, 11 August 2012

बहुत बोलते हैं ये लब


माना
बहुत बोलते हैं ये लब
लफ्ज़-ब-लफ्ज़
कभी
राज-ए-दिल भी खोलते हैं
ये लब
पर
ज़रूरी तो नहीं
हर बार बयाँ कर पायें लब
लिख पाए कलम
फ़साना-ए-जिंदगी

कितने वाकयात, कितने ख्यालात
गुज़र जाते हैं
सीधे दिल से
थरथराते रह जाते हैं लब
खामोश रह जाती कलम

कहानी कहाँ हर बार
कागज़ पे उतर
जज़्बात
नक्श-ब-नक्श
उकेर पाती है

न जाने कितनी ही बार
आरजू
सीने में दफ़न
पल पल घुटती
दम तोड़ जाती हैं 

8 comments:

  1. सच कहा...कई आरजूएँ कई तमन्नाएँ कई जज़्बात दम तोड देते हैं भीतर ही.

    सुन्दर रचना
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनु जी!

      Delete
  2. सच कहा हर बार
    न लफ्ज़ कह पाते है ना कलम लिख पाती है..
    और कितनी ही बाते दबी होती है सीने में..
    कोमल भावो की सहज अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार रीना जी!

      Delete
  3. कहानी कहाँ हर बार
    कागज़ पे उतर
    जज़्बात
    नक्श-ब-नक्श
    उकेर पाती है.... मन के चक्रवात में घूमती है कई कहानियाँ अपने सत्य के साथ ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल सही कहा रश्मि जी.
      साभार

      Delete
  4. बहुत गहन और सुन्दर है पोस्ट।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks