Sunday, 22 July 2012

जी


जब ज़रा जिंदगी  से,  घबरा-सा जाए है जी
जहमत मरने की  भी न, उठाना चाहे है जी 


कहता है जान-ए-बबाल है जीना, जिंदगी है जंग 
जिंदा रहने की जुस्तज़ू में, जान दिए जाए है जी.


जी जाएँ दो घड़ी जो जरा, जी भर तुझे देख लें 
 रू-ब-रू देख तुझे, हलक में आ अटक जाए है जी 


जब-जब तेरा जलवा नुमाया हो, कि जुनूं में
इक-इक अदा पे तेरी, सौ बार, मरे जाए जी 


हर रोज का वही रोना, वही फ़साना औ वही हम,
अपने से ही कुछ अलग,  हमें देखना चाहे है जी 


हज़ार जज़्बे हैं जी में, जंजाल सौ ज़माने के 
खुद के ही जाल में , मकड़ी सा फँसता जाए है जी 


वैसे तो जिस्म  और जिस्म की  ज़रूरतों से बंधा है
पोशीदगी ज़माने से चाहे , फ़कीर दिखना चाहे है जी.


सौ जन्नतों  औ दो जहाँ की निअमत निसार दूं 
तू समझा दे जो इक बार तो ज़रा , संभल सा जाए ये जी 



17 comments:

  1. जी का जंजाल है ये जी.....

    :-)

    बहुत प्यारी रचना शालिनी जी

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. hardik dhanyvaad anu ji..... bas thodi der se kiya hai... iske liye sorry!

      Delete
  2. वाह ,,, बहुत सुंदर प्रस्तुती,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: आदर्शवादी नेता,

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र जी!

      Delete
  3. हज़ार जज़्बे हैं जी में, जंजाल सौ ज़माने के
    खुद के ही जाल में , मकड़ी सा फँसता जाए है जी

    यही जी का जंजाल बन जाता है ...सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार संगीता जी!

      Delete
  4. वाह .. क्या बात है ... जिंदगी से जुडी बातें हैं इन शेरों में ..

    ReplyDelete
  5. जी खुश हो गया जी :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको पसंद आया... हमारी खुशकिस्मती!

      Delete
  6. Replies
    1. धन्यवाद यशवंत जी!

      Delete
  7. हज़ार जज़्बे हैं जी में, जंजाल सौ ज़माने के
    खुद के ही जाल में , मकड़ी सा फँसता जाए है जी

    जिंदगी के जंजालों का बढ़िया लेखाजोखा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर और सार्थक सृजन , बधाई.

      कृपया मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" पर भी पधारें, प्रतीक्षा है आपकी .

      Delete
    2. धन्यवाद रचना जी एवं शुक्ल जी!

      Delete

  8. हज़ार जज़्बे हैं जी में, जंजाल सौ ज़माने के
    खुद के ही जाल में , मकड़ी सा फँसता जाए है जी


    वैसे तो जिस्म और जिस्म की ज़रूरतों से बंधा है
    पोशीदगी ज़माने से चाहे , फ़कीर दिखना चाहे है जी.




    bahut achchhi prastuti hr sher lakbab lage ...mai to sirf itana kahana chahuga इस जहाँ में आग को भी फख्र हो जाता है तब.|
    हस के परवाना कोई बेफिक्र होजलता है जब||
    ये शहर है आशिको का सोच के चलना जरा |
    शोलो की दहशत से देखो वो भला डरता है कब

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत खूबसूरत शेर लिखा है नवीन जी.... वाह!

      Delete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks