Friday, 20 December 2013

प्राथमिकताएँ.....


ज़रूरत है आज फिर से 
प्राथमिकताएँ तय करने की 
वख्त आ चला 
निर्णय का 
कुछ सम्बन्ध खंगालने का 
बुनने का नए रिश्ते, कुछ को उधेड़ने का 
आवश्यकता है 
टटोलने की अपना ही मन 
अब करना फिर से आत्मावलोकन 
अम्बार सा लगता जा रहा 
स्मृतियों का मन में 
आज कुछ क्षण बैठ चैन से 
करनी है छंटाई 
दुखद पलों को निकाल मन से 
हैं सहेजने कुछ सुखद पल 
बंधनों में ढील दे 
मुक्त करना है कुछ परिंदों को 
जो दमन में न समाएँ
उन्मुक्त गगन के उन बाशिंदों को 
मन बैठ 
कुछ देर कर ले मंथन 
आज करने का चिंतन 
है फिर से 
ज़रूरत ......



5 comments:

  1. प्राथमिकताऐं ही तो
    तय नहीं हो पा रही हैं
    हर जगह फालतू भीड़
    बढ़ती जा रही है :)

    ReplyDelete
  2. गहन भाव सुन्दर कविता ..

    ReplyDelete
  3. सुंदर अभिव्यक्ति,भावपूर्ण पंक्तियाँ ...!
    =======================
    RECENT POST -: हम पंछी थे एक डाल के.

    ReplyDelete
  4. sach kaha aapne chintan jaroori hai

    ReplyDelete
  5. बहुत गहन और सुन्दर रचना |

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks