Sunday, 15 September 2013

राजनीति ( कुण्डलिया छंद)



राजनीति में चल रहा, लाशों का है खेल |
धूर्त मिले हैं धूर्त से, गिद्धों का है मेल ||
गिद्धों का है मेल,  धर्म की आँच जलाएँ|
पाने सत्ता का लाभ, देश को हैं सुलगाएँ||
लालच का तूफान, फैली हर ओर अनीति |
लोभियों  की जमात, बनी है ये राजनीति ||

10 comments:

  1. बहुत खूब सुंदर छंद ! बेहतरीन प्रस्तुति !!

    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    ReplyDelete
  2. नमस्कार आपकी यह रचना कल सोमवार (16-09-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  3. कुछ नहीं देखती ये राजनीति ... इन्हें कुछ फर्क नहीं पड़ता ...

    ReplyDelete
  4. आद्रेया शालिनी जी कम पंक्तियों में ही राजनीति के गन्दे माहौल को बखुबी प्रस्तुत किये है जो सत्य है,आभार।

    ReplyDelete
  5. aaj hame apne bachchon ki liye desh ki rajniti batlni hogi. vaise gandi ho chuki rajniti ka aapne bhut achha varnan kiya hai

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks