Saturday, 28 September 2013

सावन संग होड़ (कुण्डलिया)

कुण्डलिया 
सावन संग आज लगी, सखी नैन की होड़|
मान हार कौन अपनी, देत बरसना छोड़||
देत बरसना छोड़, नैन परनार बहे हैं |
कंचुकि पट भी भीज , विरह की गाथ कहे हैं ||
पड़े विरह की धूप, जले है विरहन का मन|
हिय से उठे उसाँस, बरसे नैन से सावन ||

16 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..


    हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल पर आज की चर्चा : पीछे कुछ भी नहीं -- हिन्दी ब्लागर्स चौपाल चर्चा : अंक 012

    ललित वाणी पर : इक नई दुनिया बनानी है अभी

    ReplyDelete
  2. kavya ki har vidha me parangat ho aap :)

    ReplyDelete
  3. वाह अन्यतम भाव , सुन्दर कुंडली

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (30.09.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,धन्यबाद।

    ReplyDelete
  6. विरह का वर्णन करने वाला सुंदर छंद। नयनों से सावन बरसने की कल्पना पीडा को और गहरा बना देता है।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर कुण्डलियाँ
    नई पोस्ट अनुभूति : नई रौशनी !
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    ReplyDelete
  8. सुन्दर होड़ नैनों की .... रस जैसे बरसते शब्द ... बहुत सुन्दर भाव ...

    ReplyDelete
  9. bahut hi sunder bhaav liye rachna

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  10. विरह की आंच से संसिक्त सात्विक रचना छंद सिद्ध।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks