Wednesday, 22 February 2012

मुकम्मल हयात

एक मुकम्मल हयात की तलाश में, 
ताउम्र बेचैन, भटकते से रहे 
दो जहाँ पाने की फ़िराक में, 
न यहाँ के और न उस जहाँ के रहे 


कभी इस कमी का रोना, 
कभी उस कमी की खलिश 
एक खुशी का सिर पकड़ते, 
तो दूजे को छोड़ते हम रहे 


क्या मिला, कितना मिला, 
इसी हिसाब में खोया चैन औ क़रार
खुदा  की नियामतों  पे  शक, 
 काफ़िर  से  हम  करते  रहे 







30 comments:

  1. वाह क्या बात है बहुत सुंदर रचना. पढ़ कर एक नहीं उर्जा सी आ गई मन में !
    लाजवाब!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद..... संजय जी!

      Delete
  2. एक खुशी का सिर पकड़ते,
    तो दूजे को छोड़ते हम रहे
    ..............आपकी यह कविता प्रेम की उद्दात भावनाओं को प्रकट करती है.... बेहतरीन प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. सच, असंतोष में जो मिला वह भी खो दिया...!
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  4. क्या मिला, कितना मिला,
    इसी हिसाब में खोया चैन औ क़रार
    खुदा की नियामतों पे शक,
    काफ़िर से हम करते रहे

    ....बिलकुल सच...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद कैलाश जी,अनुपमा जी एवं संजय जी ........ हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत सुन्दर...

    खुदा की नियामतों पे शक,
    काफ़िर से हम करते रहे ...

    बहुत खूब...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद विद्या!

      Delete
  7. अल्टीमेट... बेहद खुबसूरत रचना.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद लोकेन्द्र जी,

      Delete
  8. यही चलता है सिलसिला ... पाना खोना ... खोते जाना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस इसी पाने-खोने का हिसाब लगाने के चक्कर मे जिन्दगी क आनन्द खत्म हो जात है ..... धन्यवाद रश्मि जी !

      Delete
  9. वाह क्या बात है ...
    कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता ... तो इस हयात की तो बात ही क्या ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. पर चहत तो सभी को होती है इस मुकम्मल जहां की.... धन्यवाद दिगंबर जी,

      Delete
  10. कल 24/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद, यशवन्त जी!

      Delete
  11. क्या मिला, कितना मिला,
    इसी हिसाब में खोया चैन औ क़रार
    खुदा की नियामतों पे शक,
    काफ़िर से हम करते रहे

    खुबसूरत और शानदार आखिरी वाली ये पंक्तियाँ सबसे बढ़िया.......फुर्सत मिले तो हमारे ब्लॉग पर भी आयें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद, इमरान जी! आपके ब्लोग पर आपकी नयी रचना बहुत अच्छी लगी ....

      Delete
  12. "खुदा की नियामतों पे शक,
    काफ़िर से हम करते रहे "
    क्या बात कही है शालिनी मैंम ! बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुशीला जी!

      Delete
  13. Replies
    1. संगीत जी, बहुत बहुत धन्यवाद!

      Delete
  14. बहूत हि सुंदर,,
    सुंदर भाव अभिव्यक्ती...

    ReplyDelete
  15. Replies
    1. धन्यवाद भारत भूषण जी !

      Delete
  16. कभी किसीको मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता
    कहीं ज़मीन तो कहीं आसमान नहीं मिलता ... सुन्दर अभिव्यक्ति !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सरस जी!

      Delete
  17. क्या मिला, कितना मिला,
    इसी हिसाब में खोया चैन औ क़रार
    खुदा की नियामतों पे शक,
    काफ़िर से हम करते रहे

    WAH GAJAB KA LIKHA HAI APNE ....BADHAI SHALINI JI.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद नवीन जी!

      Delete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks